Showing posts with label Gree India Environment. Show all posts
Showing posts with label Gree India Environment. Show all posts

Monday, December 3, 2018

प्रकृति से खिलवाड़ कब रूकेगा?


दिल्ली का दम घुट रहा है। दिल्ली के कारखानों और गाड़ियों का धुंआ पहले ही कम न था, अब हरियाणा से पराली जालाने का धुंआ भी उड़कर दिल्ली आ जाता है। एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण के अनुसार इस प्रदुषण के कारण दिल्लीवासियों की औसतन आयु 5 वर्ष घट गई है। हल्ला तो बहुत मचता है, पर ठोस कुछ नहीं किया जाता। देश के तमाम दूसरे शहरों में भी प्रदुषण का यही हाल है। रोजमर्रा की जिंदगी में कृत्रिम पदार्थ, तमाम तरह के रासायनिक, वातानुकुलन, खेतों में फर्टीलाइजर और पेप्सीसाइट, धरती और आकाश पर गाड़ियां और हवाईजहाज और कलकारखाने ये सब मिलकर दिनभर प्रकृति में जहर घोल रहे हैं। प्रदुषण के लिए कोई अकेला भारत जिम्मेदार नहीं है। दुनिया के हर देश में प्रकृति से खिलवाड़ हो रहा है। जबकि प्रकृति का संतुलन बना रहना बहुत आवश्यक है। स्वार्थ के लिए पेड़-पेड़ों की अँधा-धुंध कटाई से ‘ग्लोबल वार्मिंग’ की समस्या बढ़ती जा रही है।

पर्यावरण के विनाश से सबसे ज्यादा असर जल की आपूर्ति पर पड़ रहा है। इससे पेयजल का संकट गहराता जा रहा है। पिछली सरकारों ने यह लक्ष्य निर्धारित किया था कि हर घर को पेयजल मिलेगा। लेकिन यह लक्ष्य पूरा न हो सका। इतना ही नहीं, जिन गाँवों को पहले पेयजल की आपूर्ति के मामले में आत्मनिर्भर माना गया था, उनमें से भी काफी बड़ी तादाद में गाँवों फिसलकर ‘पेयजल संकट’ वाली श्रेणी में आते जा रहे हैं। सरकार द्वारा पेयजल आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए ‘राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल योजना’ शुरू गई है। जो कई राज्यों में केवल कागजों में सीमित है। इस योजना के तहत राज्यों के जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग का दायित्व है कि वे हर गाँवों में जल आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय लोगों को प्रेरित करें। उनकी समिति गठित करें और उन्हें आत्मनिर्भर बनायें। यह आसान काम नहीं है।

एक जिले के अधिकारी के अधीन औसतन 500 से अधिक गाँव रहते हैं। जिनमें विभिन्न जातियों के समूह अपने-अपने खेमों में बंटे हैं। इन विषम परिस्थिति में एक अधिकारी कितने गाँवों को प्रेरित कर सकता है? मुठ्ठीभर भी नहीं। इसलिए सरकार की योजना विफल हो रही है। आज से सैंतीस बरस पहले सरकार ने हैडपम्प लगाने का लक्ष्य रखा था। फिर चैकडैम की योजना शुरू की गयी और पानी की टंकियाँ बनायी गयीं। पर तेजी से गिरते भूजल स्तर ने इन योजनाओं को विफल कर दिया। आज हालत यह है कि अनेक राज्यों के अनेक गाँवों में कुंए सूख गये हैं। कई सौ फुट गहरा बोर करने के बावजूद पानी नहीं मिलता। पोखर और तालाब तो पहले ही उपेक्षा का शिकार हो चुके हैं। उनके कैचमेंट ऐरिया पर अंधाधुन्ध निर्माण हो गया और उनमें गाँव की गन्दी नालियाँ और कूड़ा डालने का काम खुलेआम किया जाने लगा। अब ‘महात्मा गाँधी राष्ट्रीय रोजगार योजना’ के तहत कुण्डों और पोखरों के दोबारा जीर्णोद्धार की योजना लागू की गयी है। पर अब तक इसमें राज्य सरकारें विफल रही हैं। बहुत कम क्षेत्र है जहाँ नरेगा के अन्र्तगत कुण्डों का जीर्णोद्धार हुआ है और उनमें जल संचय हुआ है। वह भी पीने के योग्य नहीं।

दूसरी तरफ पेयजल की योजना हो या कुण्डों के जीर्णोद्धार की, दोनों ही क्षेत्रों में देश के अनेक हिस्सों में अनेक स्वंयसेवी संस्थाओं ने प्रभावशाली सफलता प्राप्त की है। कारण स्पष्ट है। जहाँ सेवा और त्याग की भावना है, वहाँ सफलता मिलती ही है, चाहे समय भले ही लग जाए। पर्यावरण के विषय में देश में चर्चा और उत्सुकता तो बड़ी है। पर उसका असर हमारे आचरण में दिखायी नहीं देता। शायद अभी हम इसकी भयावहता को समझे नहीं। शायद हमें लगता है कि पर्यावरण के प्रति हमारे दुराचरण से इतने बड़े देश में क्या असर पड़ेगा? इसलिए हम कुंए, कुण्डों और नदियों को जहरीला बनाते हैं। वायु में जहरीला धुंआ छोड़ते हैं। वृक्षों को बेदर्दी से काट डालते हैं। अपने मकान, भवन, सड़कें और प्रतिष्ठान बनाने के लिए पर्वतों को डायनामाईट से तोड़ डालते हैं और अपराधबोध तक पैदा नहीं होता। जब प्रकृति अपना रौद्ररूप दिखाती है, तब हम कुछ समय के लिए विचलित हो जाते हैं। संकट टल जाने के बाद हम फिर वही विनाश शुरू कर देते हैं। हमारे पर्यावरण की रक्षा करने कोई पड़ोसी देश कभी नहीं आयेगा। यह पहल तो हमें ही करनी होगी। हम जहाँ भी, जिस रूप में भी कर सकें, हमें प्रकृति के पंचतत्वों का शोधन करना चाहिए। पर्यावरण को फिर आस्था से जोड़ना चाहिए। तब कहीं यह विनाश रूक पायेगा।

देश की आर्थिक प्रगति के हम कितने ही दावे क्यों न करें, पर्यावरण मंत्रालय पर्यावरण की रक्षा के लिए सतर्क रहने का कितना ही दावा क्यों न करे, पर सच्चाई तो यह है कि जमीन, हवा, वनस्पति जैसे तत्वों की रक्षा तो बाद की बात है, पानी जैसे मूलभूत आवश्यक तत्व को भी हम बचा नहीं पा रहे हैं। दुख की बात तो यह है कि देश में पानी की आपूर्ति की कोई कमी नहीं है, वर्षाकाल में जितना जल इन्द्र देव इस धरती को देते हैं, वह भारत के 125 करोड़ लोगों और अरबों पशु-पक्षियों व वनस्पतियों को तृप्त करने के लिए काफी है। पर अरबों रूपया बड़े बांधों व नहरों पर खर्च करने के बावजूद हम वर्षा के जल का संचयन तक नहीं कर पाते हैं। नतीजतन बाढ़ की त्रासदी तो भोगते ही हैं, वर्षा का मीठा जल नदी-नालों के रास्ते बहकर समुद्र में मिल जाता है। हम घर आयी सौगात को संभालकर भी नहीं रख पाते।

पर्वतों पर खनन, वृक्षों का भारी मात्रा में कटान, औद्योगिक प्रतिष्ठानों से होने वाला जहरीला उत्सर्जन और अविवेकपूर्ण तरीके से जल के प्रयोग की हमारी आदत ने हमारे सामने पेयजल यानि ‘जीवनदायिनी शक्ति’ की उपलब्धता का संकट खड़ा कर दिया है।

आजादी के बाद से आज तक हम पेयजल और सेनिटेशन के मद पर एक लाख करोड़ रूपया खर्च कर चुके हैं। बावजूद इसके हम पेयजल की आपूर्ति नहीं कर पा रहे। खेतों में अंधाधुंध रसायनिक उर्वरकों का प्रयोग भूजल में फ्लोराइड और आर्सेनिक की मात्रा खतरनाक स्तर तक बढ़ा चुका है। जिसका मानवीय स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है। सबको सबकुछ मालूम है। पर कोई कुछ ठोस नहीं करता। जिस देश में नदियों, पर्वतों, वृक्षों, पशु-पक्षियों, पृथ्वी, वायु, जल, आकाश, सूर्य व चंद्रमा की हजारों साल से पूजा होती आयी हो, वहाँ पर्यावरण का इतना विनाश समझ में न आने वाली बात है। पर्यावरण बचाने के लिए एक देशव्यापी क्रांति की आवश्यकता है। वरना हम अंधे होकर आत्मघाती सुरंग में फिसलते जा रहे हैं। जब जागेंगे, तब तक बहुत देर हो चुकी होगी और जापान के सुनामी की तरह हम भी कभी प्रकृति के रौद्र रूप का शिकार हो सकते हैं।

Monday, June 6, 2011

पर्यावरण का विनाश

Punjab Kesari 6 June 2011
पर्यावरण के विनाश से सबसे ज्यादा असर जल की आपूर्ति पर पड़ रहा है। इससे पेयजल का संकट गहराता जा रहा है। पिछले 15 वर्षों में भारत सरकार ने तीन बार यह लक्ष्य निर्धारित किया कि हर घर को पेयजल मिलेगा। तीनों बार यह लक्ष्य पूरा न हो सका। इतना ही नहीं, जिन गाँवों को पहले पेयजल की आपूर्ति के मामले में आत्मनिर्भर माना गया था, उनमें से भी काफी बड़ी तादाद में गाँवों फिसलकर ‘पेयजल संकट’ वाली श्रेणी में आते जा रहे हैं। सरकार ने पेयजल आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए ‘राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल योजना’ शुरू की है। जो कई राज्यों में केवल कागजों में सीमित है। इस योजना के तहत राज्यों के जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग का दायित्व है कि वे हर गाँवों में जल आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय लोगों को प्रेरित करें। उनकी समिति गठित करें और उन्हें आत्मनिर्भर बनायंे। यह आसान काम नहीं है। एक जिले के अधिकारी के अधीन औसतन 500 से अधिक गाँव रहते हैं। जिनमें विभिन्न जातियों के समूह अपने-अपने खेमों में बंटे हैं। इन विषम परिस्थिति में एक अधिकारी कितने गाँवों को प्रेरित कर सकता है? मुठ्ठीभर भी नहीं। इसलिए सरकार की योजना विफल हो रही है। आज से तीस बरस पहले सरकार ने हैडपम्प लगाने का लक्ष्य रखा था। फिर चैकडैम की योजना शुरू की गयी और पानी की टंकियाँ बनायी गयीं। पर तेजी से गिरते भूजल स्तर ने इन योजनाओं को विफल कर दिया। आज हालत यह है कि अनेक राज्यों के अनेक गाँवों में कुंए सूख गये हैं। कई सौ फुट गहरा बोर करने के बावजूद पानी नहीं मिलता। पोखर और तालाब तो पहले ही उपेक्षा का शिकार हो चुके हैं। उनके कैचमेंट ऐरिया पर अंधाधुन्ध निर्माण हो गया और उनमें गाँव की गन्दी नालियाँ और कूड़ा डालने का काम खुलेआम किया जाने लगा। अब ‘महात्मा गाँधी राष्ट्रीय रोजगार योजना’ के तहत कुण्डों और पोखरों के दोबारा जीर्णोद्धार की योजना लागू की गयी है। पर अब तक इसमें राज्य सरकारें विफल रही हैं। बहुत कम क्षेत्र है जहाँ नरेगा के अन्र्तगत कुण्डों का जीर्णोद्धार हुआ है और उनमें जल संचय हुआ है। वह भी पीने के योग्य नहीं।

दूसरी तरफ पेयजल की योजना हो या कुण्डों के जीर्णोद्धार की, दोनों ही क्षेत्रों में देश के अनेक हिस्सों में अनेक स्वंयसेवी संस्थाओं ने प्रभावशाली सफलता प्राप्त की है। कारण स्पष्ट है। जहाँ सेवा और त्याग की भावना है, वहाँ सफलता मिलती ही है, चाहे समय भले ही लग जाए। पर जहाँ नौकरी ही जीवन का लक्ष्य है, वहाँ बेगार टाली जाती है। देश की आर्थिक प्रगति के हम कितने ही दावे क्यों न करें, पर्यावरण मंत्रालय पर्यावरण की रक्षा के लिए सतर्क रहने का कितना ही दावा क्यों न करे, पर सच्चाई तो यह है कि जमीन, हवा, वनस्पति जैसे तत्वों की रक्षा तो बाद की बात है, पानी जैसे मूलभूत आवश्यक तत्व को भी हम बचा नहीं पा रहे हैं। दुख की बात तो यह है कि देश में पानी की आपूर्ति की कोई कमी नहीं है, वर्षाकाल में जितना जल इन्द्र देव इस धरती को देते हैं, वह भारत के 122 करोड़ लोगों और अरबों पशु-पक्षियांे व वनस्पतियों को तृप्त करने के लिए काफी है। पर अरबों रूपया बड़े बांधों व नहरों पर खर्च करने के बावजूद हम वर्षा के जल का संचयन तक नहीं कर पाते हैं। नतीज़तन बाढ़ की त्रासदी तो भोगते ही हैं, वर्षा का मीठा जल नदी-नालों के रास्ते बहकर समुद्र में मिल जाता है। हम घर आयी सौगात को संभालकर भी नहीं रख पाते।

पर्वतों पर खनन, वृक्षों का भारी मात्रा में कटान, औद्योगिक प्रतिष्ठानों से होने वाला जहरीला उत्सर्जन और अविवेकपूर्ण तरीके से जल के प्रयोग की हमारी आदत ने हमारे सामने पेयजल यानि ‘जीवनदायिनी शक्ति’ की उपलब्धता का संकट खड़ा कर दिया है।

पाठकों को जानकर आश्चर्य होगा कि आजादी से आज तक हम पेयजल और सेनिटेशन के मद पर एक लाख करोड़ रूपया खर्च कर चुके हैं। बावजूद इसके हम पेयजल की आपूर्ति नहीं कर पा रहे। खेतों में अंधाधुंध रसायनिक उर्वरकों का प्रयोग भूजल में फ्लोराइड और आर्सेनिक की मात्रा खतरनाक स्तर तक बढ़ा चुका है। जिसका मानवीय स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है। सबको सबकुछ मालूम है। पर कोई कुछ ठोस नहीं करता। जिस देश में नदियों, पर्वतों, वृक्षों, पशु-पक्षियों, पृथ्वी, वायु, जल, आकाश, सूर्य व चंद्रमा की हजारों साल से पूजा होती आयी हो, वहाँ पर्यावरण का इतना विनाश समझ में न आने वाली बात है। सरकार और लोग, दोनों बराबर जिम्मेदार हैं। सरकार की नियत साफ नहीं होती और लोग समस्या का कारण बनते हैं, समाधान नहीं। हम विषम चक्र में फंस चुके हैं। पर्यावरण बचाने के लिए एक देशव्यापी क्रांति की आवश्यकता है। वरना हम अंधे होकर आत्मघाती सुरंग में फिसलते जा रहे हैं। जब जागेंगे, तब बहुत देर हो चुकी होगी।

पर्यावरण के विषय में देश में चर्चा और उत्सुकता तो बड़ी है। पर उसका असर हमारे आचरण में दिखायी नहीं देता। शायद अभी हम इसकी भयावहता को समझे नहीं। शायद हमें लगता है कि पर्यावरण के प्रति हमारे दुराचरण से इतने बड़े देश में क्या असर पड़ेगा? इसलिए हम कुंए, कुण्डों और नदियों को जहरीला बनाते हैं। वायु में जहरीला धुंआ छोड़ते हैं। वृक्षों को बेदर्दी से काट डालते हैं। अपने मकान, भवन, सड़कें और प्रतिष्ठान बनाने के लिए पर्वतों को डायनामाईट से तोड़ डालते हैं और अपराधबोध तक पैदा नहीं होता। जब प्रकृति अपना रौद्ररूप दिखाती है, तब हम कुछ समय के लिए विचलित हो जाते हैं। संकट टल जाने के बाद हम फिर वही विनाश शुरू कर देते हैं। हमारे पर्यावरण की रक्षा करने कोई पड़ोसी देश कभी नहीं आयेगा। यह पहल तो हमें ही करनी होगी। हम जहाँ भी, जिस रूप में भी कर सकें, हमें प्रकृति के पंचतत्वों का शोधन करना चाहिए। पर्यावरण को फिर आस्था से जोड़ना चाहिए। तब कहीं यह विनाश रूक पायेगा। अन्यथा जापान के सुनामी की तरह हम कभी भी प्रकृति के रौद्र रूप का शिकार हो सकते हैं।

Monday, February 28, 2011

ग्रीन इंडिया मिशन : घोषणा या हकीकत

Punjab Kesari 28 Feb11
bl g¶rs iz/kkuea=h th us Ik;kZoj.k ea=ky; ds xzhu bf.M;k fe”ku dks gjh >.Mh ns nhA blds rgr 46 gtkj djksM+ :Ik;s [kpZ djds] 50 yk[k gSDVs;j Hkwfe ij u;s taxy yxk;s tk;saxsA ns”k ds fcxM+rs Ik;kZoj.k vkSj ?kVrs gfjr {ks= dks ns[krs gq, bls ,d vPNh igy ekuk tkuk pkfg,A ij ,slh cgqr lkjh ?kks’k.kk,sa vusd iz/kkuea=h fiNys 63 o’kksZa esa djrs jgs gSaA vxj mudk 10 Qhlnh fgLlk Hkh bZekunkjh ls fdz;kfUor gqvk gksrk rks ns”k vkt fodflr jk’Vksa dh tekr esa [kM+k gksrkA ouhdj.k ds ekeys esa dsUnz vkSj jkT;ksa ds Ik;kZoj.k ea=ky;ksa dk fjiksVZ dkMZ cgqr fujk”kktud gSA dkxtksa ij ou yxk fn;s tkrs gSa vkSj ekSds ij ,d Hkh isM+ fn[kk;h ugha nsrkA ou foHkkx viuh lQkbZ esa dg nsrk gS fd cdjh pj xbZa ;k yksxksa us isM+ dkV fy;sA ?kVrs gfjr {ks= dk ekSle ij fdruk foijhr vlj iM+ jgk gS] ;s vkt iwjk ns”k vuqHko dj jgk gSA lkjs ns”k esa iz/kkuea=h dh ;g ?kks’k.kk dkjxj dSls gksxh] ;g rks eSa ugha dg ldrk] ysfdu ftl {ks= esa fiNys 7 o’kksZa ls eSa bu eqn~nksa ij lfdz; gwW] mldk uewuk ;g tkuus ds fy, dkQh gS fd ckdh pkoy idk ;k ughaA

iz/kkuea=h dk;kZy; dh ukd ls dqy 145 fd-eh- nwj czt {ks= esa ouksa dk gky csgky gSA ;g og {ks= gS] tks fnYyh&vkxjk vkSj t;iqj ds Lof.kZe f=dks.kZ ds e/; vkrk gS vkSj ;gkWa ls gj fons”kh esgeku vkSj Ik;ZVd xqtjrk gSA dqat&fudqatksa esa gqbZ Jhjk/kkd`’.k dh yhykvksa ds fy, lqizfl) czt Hkkjr dh gj fp=dyk ”kSyh esa cM+s vkd’kZd :Ik esa izLrqr fd;k tkrk jgk gSA pkgsa oks jktLFkku dh fd”kux<+ “kSyh gks] ;k nf{k.k dh ratkSj “kSyhA ij bl czt esa 137 ou FksA ftudk mYys[k ikSjkf.kd xzaFk ^czt HkfDr foykl* esa vkrk gSA vkt ek= 3 ou cps gSaA 134 ouksa esa /kwy mM+rh gSA dw<+s ds <sj yxs gSaA ljdkjh nLrkostksa rd esa budk fjdkWMZ miyC/k ugha gSA bu ouksa dk yksd ijaijkvksa esa vkSj lkfgR; esa o`gn o.kZu gSA gekjs losZ{k.k ds nkSjku ekSds ij budk vkdkj 3 ,dM+ ls 550 ,dM+ rd ik;k x;kA

ouksa ds laj{k.k esa /keZ] laLd`fr vkSj yksdijaijkvksa dh mis{kk djus ds dkj.k gh ns”k ds ouksa dh ;g fLFkfr gq;h gSA Ik;kZoj.kfon~ Hkh /kkfeZd n`f’V ls egRoiw.kZ ouksa ds laj{k.k esa bl i{k dks egRo nsus ds gkeh gSaA D;ksafd vkLFkk vkSj fo”okl ds dkj.k tuekul ouksa dh tSlh j{kk dj ldrk gS] oSlh Hkz’V iz”kklfud O;oLFkk ds osruHkksxh dkfjUns dHkh ugha dj ldrsA vkt ns”k ds ouksa ds dVku ds ihNs taxy ekfQ;k vdsyk xqugxkj ughaA mls iz”kklfud vkSj jktuSfrd laj{k.k [kqysvke izkIr gksrk gSA blfy, t:jh gS fd ikSjkf.kd egRo ds czt tSls {ks=ksa ds ouksa ds fodkl esa muds /kkfeZd egRo dks le>dj ;kstuk,sa cuk;h tk;saA

czt ds bu ouksa dks pkj oxksaZ esa ck¡Vk x;k gS( ou] miou] vf/kou vkSj izfrouA ouksa ls vfHkizk; ml LFkku ls gS tgk¡ d`f’k Hkwfe o xkSpkj.k Hkwfe i;kZIr ek=k esa gksrh FkhA Jh d`’.k tgk¡ viuh xk;sa pjk;k djrs FksA Jhd`’.k dh vf/kdrj yhyk,sa ouksa esa gh lEiUu gq;h FkhaA buesa Qy&Qwy] tho&tUrq] tM+h&cwVh vkfn i;kZIr ek=k esa ik;h tkrh FkhaA ogha vf/kou dk vfHkizk; ,sls LFkku ls gS tgk¡ i”kqikyd vius i”kqvksa lfgr jgrs FksA [ksyus ds eSnku gksrs FksA ogk¡ jgus okyksa dk thou izd`fr vk/kkfjr FkkA tgk¡ “kq) [kkuk] LoPN okrkoj.k] lkQ&lQkbZ o gfj;kyh dk iwjk /;ku j[kk tkrk FkkA miou ls vfHkizk; ouksa esa fLFkr ml LFkku ls gS tgk¡ Jhd`’.k us viuh yhyk,sa lEikfnr dh FkhaA vFkkZr iwjs ou ds fo”kky {ks= esa lEcfU/kr yhyk ftl LFkku ij lEikfnr gqbZ gks] mls miou ;k fudqat dgk tkrk gSA ^izfrou* dk vfHkizk; vf/kou esa fLFkr ml LFkku ls gS ftls LFkkuh; fuoklh ou ds izfr:i esa ltkdj iwtrs FksA bl izdkj czt ds ;s ou cztokfl;ksa ds vkfFkZd o vk/;kfRed thou dk vfHkUu vax jgs gSaA

mnkgj.k ds rkSj ij xkso/kZu ds ikl fLFkr n”kZu ou eas egkjkl ds nkSjku Hkxoku Jhd`’.k us ns[kk fd jk/kkjkuh lfgr vU; xksfi;ksa ds ân; esa mudh fudVLFkrk ikdj vge mRiUu gks jgk gS] rks Jhd`’.k us mUgsa okLrfodrk esa okil ykus ds fy, Loa; dks vUrZ/;ku dj fy;kA Jhd`’.k dks vius chp ls xk;c ns[kdj jk/kkth o vU; xksfi;k¡ fojgdqy dh ihM+k ls NViVkrs gq, foyki djus yxha rFkk mudks <w¡<rs gq, ou&ou HkVdus yxhaA vUr esa os bl ou esa vkdj ewfNZr gksdj fxj iM+haA rc Hkxoku Jhd`’.k izxV gks x;sA bl izdkj xksfi;ksa dks iqu% muds n”kZu izkIr gq,A blhfy, bldk uke ^n”kZu ou* gSA dHkh ;gkW dnEc ds gtkjksa o`{k Fks] vkt ,d Hkh ughaA

blfy, geus vkt ls 5 o’kZ igys bu lHkh ouksa dk oSKkfud losZ{k.k djus dk y{; j[kkA  ftlls czt esa budh fLFkfr] buds vkdkj] budh e`nk dh xq.koRrk] buds LokfeRo] buds lkaLd`frd bfrgkl] buds jktLo fjdkMZ vkSj budh orZeku n”kk dk xgjkbZ ls v/;;u fd;k tk ldsA bl dk;Z ds fy, vkbZ-vkbZ-Vh- tSls ns”k ds izfrf’Br bathfu;fjax laLFkkuksa ds vusd ;qokvksa o cztoklh ;qokvksa us igyh ckj czt ds 137 ouksa dh lgh fLFkfr dk uD”kk rS;kj fd;k vkSj ntZuksa ouksa dk foLr`r losZ{k.k iwjk fd;kA tks dk;Z vHkh tkjh gSA bl losZ{k.k dk ykHk ;g gqvk fd vc ^n czt Qkm.Ms”ku* dh Vhe bu lHkh ouksa ds th.kksZ)kj dh oSKkfud ;kstuk cuk jgh gSA Qkm.Ms”ku ds yS.MLdsi fMtk;uj vkSj fØ;sfVo vkfVZLV buds vkd’kZd izk:Ik rS;kj dj jgs gSaA rkfd lHkh ouksa ds fodkl o lkSUn;hZdj.k dk CY;wfizaV rS;kj gks ldsaA ftuds vk/kkj ij ge bu ouksa dks fQj ls ltk&laokj ldsaA cjlkuk ds xgoj ou vkSj eFkqjk ds :fpy ou dks geus blh izfdz;k ls ltkdj rS;kj dj fn;k gSA tks vc rhFkZ;kf=;ksa] lUrksa o HkDrksa ds fy, vkuUn dk lzksr cu x;s gSaA bu ouksa dks ,d fudqat dk Lo:Ik ns fn;k gSA ;gk¡ dh yhykvksa ds vuq:Ik foxzgksa dks ;gk¡ LFkkfir fd;kA ;gk¡ ds bfrgkl dks f”kykys[kksa ij vafdr fd;kA bl izdkj bu ouksa dks ltk;k&laokjk gh ugha] buds leqfpr j[kj[kko dh Hkh ekdwy O;oLFkk Hkh dh gSA bu OkUkksa ds IkqUkq:)kj dh YkkXkRk yxHkx 3 yk[k :i;s izfr ,dM+ vkrh gSA ij gekjh bruh oSKkfud igy vkSj lQy iz;ksx ds ckotwn gesa mEehn ugha gS fd xzhu bf.M;k fe”ku ls czt ds ouksa dks dHkh dksbZ ykHk fey ldsxkA D;ksafd ljdkj dh ;kstuk,sa dkxtksa ij vkd’kZd vkSj /kjkry ij Fkdk nsus okyh gksrh gSaA D;k iz/kkuea=h us bl ykyQhrk”kkgh ls fuiVus dk dksbZ rjhdk bZtkn fd;k gS\